भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाँच पँक्तियाँ / नाज़िम हिक़मत / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उबरने की कला दिल में छिपी होती है, सड़कों पर, क़िताबों में
माँ की गाई हुई लोरियों में
ख़बर की सुर्खियों में

यह समझने में, मेरी जान ! कि कितनी ख़ुशी की बात है
समझना कि क्या कुछ बीत चुका और क्या आने वाला है ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य