भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाँच हाइकु / 'सज्जन' धर्मेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(1)

हवा में आई
मीन समझ पाई
पानी का मोल

(2)

हवा ने चूमा
दीप का तन झूमा
काँप उठी लौ

(3)

चंचल नदी
ताकतवर बाँध
गहरी झील

(4)

तुम हो साथ
जीवन है कविता
बच्चे ग़ज़ल

(5)

सूर्य बहका
लुट गईं नदियाँ
पर्वत रोया