भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पांच बहिनियाँ हे मइया पांचो उतफाल / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पांच बहिनियाँ हे मइया पांचो उतफाल
छोटी रानी विषहरि कनूनियां आंगन ठाढ़ि
लाबा दे रे कनूनियां भैया, पूजब ब्रजनाग
पांच बहिनियां हे मइया, पांचो उतफाल
छोटी रानी विषहरि गोअरबा आंगन ठाढ़ि
दूध दे रे गोअरबा भैया, पूजब ब्रजनाग
पांच बहिनियाँ हे मइया पांचो उतफाल
(एहिना तेलिया सँ तेल, कुम्हरासँ दीप आ पटबासँ पाट-सूत डोरी माँगब)