भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाचहिं पान भगता रे / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पाँचहि पान भगता रे खिलिया लगौले।2
मन खुशी भेलै भगता रे मैया शीतल के
दियवे न दियवे माता हे आजु हे पानमा।
पाँचहि पान भगता रे खिलिया लगौले।
मन खुशी भेलै भगता रे मैया मालतो के
दियवे न दियवे माता हे आजु हे पानमा।
पाँचहि पान भगता रे खिलिया लगौले।
मन खुशी भेलै भगता रे मैया धनसरो के
दियवे न दियवे माता हे आजु हे पानमा।
पाँचहि पान भगता रे खिलिया लगौले।
मन खुशी भेलै भगता रे मैया फूलसरो के
दियवे न दियवे माता हे आजु हे पानमा।
पाँचहि पान भगता रे खिलिया लगौले।
मन खुशी भेलै भगता रे मैया सभाई के
दियवे न दियवे माता हे आजु हे पानमा।