भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी की कुँजी / ओक्ताविओ पाज़ / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऋषिकेश के बाद
गँगा अभी भी हरी है।
शीशे-सा दिगन्त
शिखरों के बीच टूटकर बिखर जाता है ।
बिल्लौर के बीच हम टहलते हैं ।
ऊपर और नीचे
शान्ति ही शान्ति ।
नीले आसमान में
सफ़ेद पत्थर, काले बादल
तुम कहती हो :
Le pays est plein de sources[1].
उस रात डुबो दी मैंने अपनी हथेलियाँ तुम्हारे सीने में ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य

शब्दार्थ
  1. यह देश सोतों से भरपूर है। मूल कविता में यह पँक्ति स्पेनिश में नहीं, बल्कि फ़्रांसीसी में है।