भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी बरसा / राजेश जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आए बादल, बादल आए,
पानी जेबों में भर लाए।
इतने सारे ताल-तलैया,
दैया...दैया, दैया दैया।
कहो, कहाँ से तुम भर लाए?
‘जेबों में भी कहीं ठहरता पानी बुद्धू’
बादल के पापा चिल्लाए!
जेब उलट दी उसने झटपट,
पानी बरसा टप-टप, टप-टप!
बादल के पापा मुस्काए।