भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पानी में लकीरें / मनोहर बाथम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अजीब-सी सीमा है यहाँ
नदी के बीच से

कौन खींच सकता है
पानी में लकीरें
क्या हुए हैं
दो टुकड़े दिल के भी कभी

मछलियों का आना-जाना
बदस्तूर जारी है - इधर से उधर
कछुए भी नहीं पहचानते सीमा रेखा

जब भी शिकार होती हैं मछलिया~म
उन पर कहीं नहीं लिखा होता
मुल्क़ों का नाम
बस, जानता हूँ सिर्फ़ शिकारी का नाम
और
देखता तड़पती मछलियाँ