भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पारस पत्थर / तादेयुश रोज़ेविच / सरिता शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस कविता को
सुला देने की जरूरत है

इससे पहले कि
यह शुरू कर दे
चिंतन करना
इससे पहले कि
यह उम्मीद करे
तारीफों की

जिंदा हो जाए
भूलने के पल में

शब्दों के प्रति संवेदनशील
उचटती निगाह डालता है
तलाश करता है
पारस पत्थर की
अपनी मदद के लिए

अरे राहगीर तेजी से कदम बढ़ा
मत उठा लेना इस पारस पत्थर को
वहाँ एक अतुकांत
अनावृत्त कविता
तब्दील हो जाती है
राख में