भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पास आ बैठे / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

21
मिलता नहीं,
कभी प्यासे को पानी,
आहत को दिलासा,
अधूरी रही
जीवन-परिभाषा,
तट कब थे मिले!
22
पास आ बैठे
कुछ देर ठहरे
छल कर गए थे,
पथ में मिले
बचाकर नज़र
चुपचाप निकले।
23
बिखेर गया
मन-आँगन कोई
गुलाल अभी,
तड़पा गया
रह-रह करके
उनका ख्याल अभी
24
तुम दीपक
मन के, जीवन के
तुम हो मेरी आशा
तुम न होते
लिख न पाते हम
जन्मों की परिभाषा।
25
दीपक बन
राह दिखाते जाना
बाधाओं में मुस्काना,
पथ में मिलें
उनको गिराकर
आगे न बढ़ जाना।