भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पाहन हूँ मैं / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


11
बाहर तूफाँ
मन के भीतर का
उससे भारी
12
मूल कारण
प्राकृतिक कोप का
अतिक्रमण
13
जो वीर वेश
तरु जूझे आँधी से
अब भी शेष
14
पाहन हूँ मैं
तुम हीरा कहते
प्रेम तुम्हारा
15
तुम हो शिल्पी
प्रतिमा बना डाली
मैं पत्थर थी