भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिंजर बंद जिदंगी / मनीष मूंदड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अक्सर हम अपनी जि़ंदगी बंद पिंजरों में गुजार देते हैं
ज्यादा फकऱ् कहाँ होता हैं
पिंजरबंद चिडियाँ और हम में
हम और हमारी सोच
नजरबन्द रहते हैं
मजबूरियों की सलाखों में
समाज के दकियानूसी संकुचन में
अपने झूठे अहम की चार-दिवारी में
अपनी अपनी हदबंदियों के दायरे खींच
अपने अनसुलझे सवालों के बीच
ना सवाल करने की कोशिश
ना जवाब पाने के ख़लिश
साँसों की आवाजाही से भी हमारा रिश्ता सिफऱ्
एक जि़ंदा लाश बन, जंजीरो में जकड़े रहने का रहता है
कहाँ छोड़ आए हम अपनी उड़ानों के पंख
ना जाने कब और कैसे भूल गए अपनी स्वतत्रंता के रंग
वो बेबाक इरादे,
वो सपनों की बातें
अब सिफऱ् डर हममें पलता हैं
हमारी जि़ंदगी का कि़स्सा
बस इन सब के बीच सहमा सहमा-सा चलता है