भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिछाण / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तर्क रो बीज
ऊग्यो सवाल रो रूंख बण’र
असली आदमी री
पिछाण कांई
प्रेम रै पाणी सूं तर
हीयै री धरती
दियो उथळो-
दूजां खातर जीवै
बस आ ई !