भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिता और पुत्र / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत तेज दोड़ते थे पिता
इतना तेज
कि निकल जाते थे सबसे आगे
सबसे पीछे खड़े होते जानबूझ कर
और निकल जाते थे सबसे आगे
दोड़ना उनको अच्छा लगता था
बरसो से दोड़ते ही आ रहे थे
एक दिन जब हम दोड़ रहे थे साथ-साथ
पिता पिछड़ने लगे
लगा वे थक रहे थे
देखा
वे हाँफ रहे हैं
मैं डर गया था
पर
आगे निकल गया था