भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिता जूं यादगीरियूं / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मूं कोन कयो कॾहिं
उन्हीअ ज़मीन जो स्पर्शु
न ॾिठमि उहे ज़रखेज़ ॿनियूं
न ॾिनमि
उन सीतल ऐं निर्मल नदीअ में टुॿियूं
न वेठुसि दरिया जे कप ते कॾहिं
कहाणी उन ज़मीन ऐं ॿनियुनि जी
तो बुधाई
संगीत
नदीअ ऐं दरियाह जे वहकुरे जो
तो सुणायो ऐं इहो कन्दे
तुंहिंजी कोशिश रही
त मां रहा बिलकुल बेख़बर
त तरी आया आहिनि ॻोढ़ा
तुंहिंजियुनि अखियुनि में
ऐं भरिजी आयो आहे तुंहिंजो गलो...
हा पिता
मूं उन ज़मीन, ॿनीअ, नदीअ ऐं दरियाह जो
शिद्दत सां कयो आ अहसासु
पंहिंजे अन्दर में

ऐं न लॻा आहिनि उहे मंज़र
तुंहिंजियुनि सिमृतियुनि जा
कॾहिं बि मूं खे
अण-ॼातल अण-सुञातल।