भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पिता बोले थे / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पिता बोले थे

सदा सच बोलना
मैं झूठ कभी नहीं बोला

पिता बोले थे
हमेशा ईमानदार रहना
मैंने बेईमानी नहीं की कोई

पिता बोले थे
न्याय के संग साथ रहना
मैंने अन्याय का दामन कभी नहीं थामा

पिता बोले थे
सदा सुखी संपन्न रहना
पिता की हर बात मानना क्या संभव भी है ?