भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीछे की ओर चलना / हुम्बरतो अकाबल / यादवेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समय समय पर
मैं पीछे की ओर चलता हूँ
स्मृतियों को जगाने का मेरा यही ढंग है।

यदि मैं
आगे ही आगे
चलता जाऊँगा
तो मैं बता नहीं पाऊँगा —

कैसा होता है
इतिहास से
विस्मृत हो जाना।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र