भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीठ पर मेरी भार / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीठ पर मेरी भार
गर्भ में मेरे एक प्रकाश ।
अब मुझ में रहो,
उगाओ जड़ें ।

जब तुम हो उपरिवत
मुझे हो रहा है भान
विजयी व गर्वित होने का

मानो तुम्हें बाहर निकाल रही हूँ मैं
घेराबंदी से घिरे शहर के बहिरंग ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह