भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीड़ पूगी ठेठ गळै लिखसूं आज / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीड़ पूगी ठेठ गळै लिखसूं आज
कदाच कीं बिक्खो टळै लिखसूं आज

तावड़ियो तो रोजीना माथै हो
आ छीयां न्यारी तळै लिखसूं आज

होठां री मुळक नै मुळक कैवूं किंयां
मन-नैण नित नीर ढळै लिखसूं आज

तोती सांसां सोच करै चूल्है रो
आयां पैली तूं ढळै लिखसूं आज

अबै तो झिरमिर-झिरमिर बरसो परा
मन-जंगळ धू-धू बळै, लिखसूं आज