भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पीड़ माथै म्हारो जोर कांई / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीड़ माथै म्हारो जोर कांई
रूं-रूं में ऊगगी थोर दांई

किंवाड़ां जड़्‌या काच हां म्हे तो
अठै अजमावो थे जोर कांई

है जिका गाभा तो पै’र ऊभो
सूकावूं अबै म्हैं धो’र कांई

थे तो उमड़ो घुमड़ो बादळ बण
म्हैं नाचूंला बन रै मोर दांई

ओळूं-धन लियां फिरूं मेळै में
देखूं अबै करसी चोर कांई