भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पीला नीला कि लाल होली में / अभिषेक कुमार अम्बर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीला नीला कि लाल होली में
बरसे रंगे-जमाल होली में।

रंगने को तेरे गाल होली में
भेज देंगे गुलाल होली में।

राधा के पीछे पीछे डोले है
पूरे दिन नंदलाल होली में।

रंग उसको लगा के मानूँगा
आन का है सवाल होली में।

रात दिन सुब्हो-शाम आता है
आपका ही ख़याल होली में।

हो गया जो भी यार होना था
अब न कर तू मलाल होली में।

आज मौक़ा है फिर मिले न मिले
उसको भी रंग डाल होली में।

मन न जाये मचल किसी गुल पे
खुद को 'अम्बर' संभाल होली में।