भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुटियै राजा रै नांव / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभो हेठै आ पड़ैला
औ बै’म
रूड़ो है
रूपाळो है
साची बात आ
तूं खिमता आळो है

इंयां ई सूतो रैइजै
टांगां ऊंची करियां
ओ म्हारा पुटिया राजा !

नींतर
औ आभो
धड़ंद करतो हेठै आ पड़ैला !
         हेठै आ पड़ैला !!