भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरानी यादें-1 / मनीषा पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहाँ जाती हैं
पुरानी यादें
प्‍लास्‍टर झड़ी दीवार की तरह
रहती हैं हर घड़ी आँखों के सामने
छत पर पुराने सीलिंग फैन की तरह
लटकी होती हैं
और घरघराती हैं पूरी रात