भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुरानी यादें-2 / मनीषा पांडेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी कोई नर्म हथेली बनकर
तो कभी सूजे हुए फफोलों का दर्द
ज़िंदा रहती हैं यादें
कहीं नहीं जातीं
जमकर बैठ जाती हैं छाती में
पूरी रात दुखता है सीना
आँखें सूजकर पहाड़ हो जाती हैं