भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुराने गुरुजनों के प्रति आभार / राबर्ट ब्लाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब हम चहलकदमी करते हैं किसी जमी हुई झील पर,
हम वहां रखते हैं अपने कदम जहां वे पहले कभी नहीं पड़े थे.
अछूती सतह पर चहलकदमी करते हैं हम. मगर होते हैं बेचैन भी.
कौन होता है वहां नीचे, सिवाय हमारे पुराने गुरुजनों के ?

पानी जो कभी संभाल नहीं पाता था इंसान का वजन
--तब हम विद्यार्थी हुआ करते थे-- अब टिकाए रहता है हमारे पैरों को,
और कोई मील भर फैला होता है हमारे सामने.
हमारे नीचे होते हैं गुरुजन, और खामोशी होती है हमारे चारों ओर.

अनुवाद : मनोज पटेल