भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुलकित गमन / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » पुलकित गमन

सिंदूरी केमिल्या बिखरे
गली में ,
मन करता है फुदकूँ
फूलों पर !
फूलों की झाडी
कलियों से लदी
उमगती है हर्षोल्लास से !
निहार कर नीलाकाश को
ज़ेल्कोवा वृक्ष के पार ,
पत्तों के पंख करते प्रस्फुरण
महसूस करती हूँ स्फूर्ति
वृक्ष के सशक्त स्कंध से !
आह गमन पुलकित !
सुनते हो क्या प्रकृति को ?
फूलों के स्वर ,
वृक्षों के प्रस्फुरण?
पहले रविवार की सुबह ,
बसंत ऋतु में
जाते समय गिरिजाघर!

अनुवादक: मंजुला सक्सेना