भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुल पर लड़कियाँ / देवेंद्रकुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी थीं
अब नहीं हैं लड़कियां
पुल पर,
इतनी आंखों में
अटककर भी।
एक झुकी थी नदी की तरफ
दूसरी ने थामा था
गहली वाली ने पकड़ा था
उलट-पलट।
नदी की तरफ
हम देख रहे थे
सड़क दौड़ रही थी
अभी तक थीं
कहां से यहां तक थीं
दो लड़कियां
पुल पर-
एकाएक हवा हो गई थीं
लड़कियां।