भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पुल / ओक्तावियो पास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
इस पल और इस पल के बीच,
मैं हूँ और तुम हो के बीच,
एक शब्द है पुल ।

उसको पार करते समय
तुम पार करते हो अपने आप को :
दुनिया जुड़ने लगती है
और हो जाती है एक छल्ले की तरह बंद ।

एक तट से दूसरे तट तक,
हमेशा होती है
एक फैली हुई देह :
इन्द्रधनुष ।
मैं सोऊँगा उसकी मेहराबों के तले ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : रीनू तलवाड़