भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पूग परा घरां भायला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूग परा घरां भायला
म्हे तो नित डरां भायला

आं भींतां सागै म्हे तो
बतळावण करां भायला

ई ठाडी दुनिया आगै
म्हे पाणी भरां भायला

आ नित री लायी-खायी
नित जीवां-मरां भायला

अळधा रह म्हे ओळूं धन
नित भेळो करां भायला