भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूछो नहीं हमसे खामोशियों का अर्थ / हरीश भादानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूछो नहीं हमसे खामोशियों का अर्थ !
बारूद गीली है
अभी आवाज़ की
फिर भी
बिछाए जा रहे हैं-
तलहटी से कंगूसों तक
कैसी बनेगी सूख जाने पर-
पूछो नहीं हमसे
साँसों से
हवाते जा रहे हैं धूप को
कि यह हमारी
अँगुलियाँ उठी दिशा ले ले
क्या बनेगा रंग
रगड़ खाने पर
पूछो नहीं हमसे
झुर-मुटों से
उलझते तन के बहुत गहरे में
छिपा रक्खा हैं
एक दुख, बहुत कुछ-एक धुन,
किसी साफ आकाश के नीचे
धरती के खुले आँगन रख लेने से
क्या बनेगा रूप
यह पूछो नहीं हमसे !