भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूजा के हेतु शंकर आयल छी हम पुजारी / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

पूजा के हेतु शंकर आयल छी हम पुजारी
जानी ने मंत्र-जप-तप, पूजा के विधि ने जानी
तइयो हमर मनोरथ, पूरा करू हे दानी
चुप भए किए बइसल जी, खोलू ने कने केबारी
बाबा अहाँके महिमा, बच्चेसँ हम जनइ छी
दर्शन दिअऽ दिगम्बर, दर्शन केर हम भिखारी
हे नाथ हम अनाथे, वर दय करू सनाथे
मिनती करू नमेश्वर, कर जोड़ि दुनू हाथे
डामरु कने बजाउ, गाबइ छी हम नचारी