भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

पूर्णिमा को अमावस जी गया / धीरेन्द्र अस्थाना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आह! ये कैसा
हृदयाघात;
चुभ रही न जाने
कौन सी ये रात,
मौन है काल
कर रहा प्रत्याघात!
आज मृगांक भी
पूर्णिमा को
अमावस जी गया

तिमिर आज
पूनम को पी गया!!

ऊषा पूर्व
द्युति आछिन्न
नक्षत्र सी,
हो रही
निमीलित यह
किरण भी
आशा की!
सोंच कर परिणाम,
समय पूर्व आज;
छिप कहीं आज
दिनकर भी गया!
तिमिर आज
पूनम को पी गया!!

आएगा वह
प्रद्योतन
हरेगा त्रान;
करेगा शशांक को
निष्कलंक
वह अत्न!
जाने कहाँ आज
वह प्राची का वीर भी गया!

तिमिर आज
पूनम को पी गया!!