भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूर्वाभ्यास / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं बुढ़ापे का पूर्वाभ्यास कर रही हूँ,
अकेलेपन,
ग़रीबी,
बहिष्कृत किए जाने का,

मुफ़लिसी,
और न होने का पूर्वाभ्यास.
मैं अन्धेपन का पूर्वाभ्यास कर रही हूँ,
अन्त के अन्त का ।

आख़िरकार
किसी भी चीज़ का भय नहीं रहता.
भय, मत खरोंचो मेरी रातों को,
अपने सपनों जैसा बनाने उन्हें ।

दुख के अनुभव,
सोने की धातु को बह जाने दो
हस्ती की नदी से ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर