भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पूसी बिल्ली / द्वारिका प्रसाद माहेश्वरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूसी बिल्ली, पूसी बिल्ली
कहाँ गई थी?
राजधानी देखने मैं
दिल्ली गई थी!
पूसी बिल्ली, पूसी बिल्ली
क्या वहाँ देखा?
दूध से भरा हुआ
कटोरा देखा!
पूसी बिल्ली, पूसी बिल्ली
क्या किया तुमने?
चुपके-चुपके सारा दूध
पी लिया मैंने!