भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पृथ्वी के वंशज / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पृथ्वी के वंशज हैं
गड़ेरिये और मछुआरे
उनके गीत हमारी आत्मा की
आवाज़ हैं

गड़ेरिये अपनी भेड़ों के साथ चरागाह की खोज में
धरती के सुदूर कोने में पहुँच जाते हैं
गर्मी हो या सर्दी बाधित नहीं होती उन की यात्रा

वे छतनार पेड़ो के नीचे बना लेते हैं ठिकाना
चाँद और सितारों की रोशनी के नीचे
गुज़ारते हैं रात

इसी तरह मछुआरे अपनी नाव के साथ
समुन्दर में विचरण करते है
और तूफ़ानों से लड़ते हैं

थल और जल के नागरिक हैं
गड़ेरिये और मछुआरे

वे हमारे
आदिम राग का आलाप हैं