भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेट / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घणी’ज फूठरी है तूं
लिख सकूं सैंकड़ूं गीत
थारै जोबन माथै
पण खाली रूप निरख्यां सूं
कांई सरै
सुण बावळी !
पेट तो रोटी सूं ई भरै ।