भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पेड़ / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ कट रहा था
और मेरे पास शब्द नहीं थे
 लकड़हारे के विरूद्व
काट रहा था
वह तो ठेकेदार के लिए
मैंने गौर से देखा उसे
लगा वह खुद भी कट रहा था
साथ साथ

और उसका कटना
पेड़ के कट कर गिर जाने के बाद भी जारी था