भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पोती की स्म्रति में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खैर,
वह तो जल-जला गई
छोड़ो उसकी कहानी
वैसे खत्म नहीं होती कहानी

जल-जला जाने के बाद भी
पीछे रह जाते हैं
दीवारों पर कुछ काले धब्बे
कुछ फर्श पर भी
न सुनना चाहें तन भी उभरती है हवा में
कुछ चीत्कारें
कुछ चीखें
बचाओ-बचाओ की असहाय अटूट पुकार
न सुनी जाने पर जो
टूट जाती है
बेहद ठंडी रातों के सांय-सांय करते
सूने सन्नाटे में
मेरी नींदों को जलाकर
आज भी सामने आ खड़ी होती हो
तो इतना बताओ सुन्नू
इस जलजले में कहां ढंढ़ें
तुम्हारे जल-जला जाने के कारण
बताए नहीं जो तुमने ही !

(जली अथवा जलाई पोती की स्मृति में)