भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

पोशीदा / नाओमी शिहाब न्ये

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगर आप फर्न का एक पौधा
रख दें किसी पत्थर के नीचे
तो अगले ही दिन हो जाएगा यह
तक़रीबन ग़ायब
गोया पत्थर निगल गया हो उसे ।

अगर आप दबाएँ रखें किसी महबूब का नाम
बिना उचारे अपनी ज़ुबान के नीचे
यह बन जाता है ख़ून
उफ़्फ़
वो हल्की खींची गई साँस
पोशीदा
आपके लफ़्ज़ों के नीचे ।

कोई कहाँ देख पाता है
वह ख़ुराक जो पोसती है आपको ।