भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्यार भरे उद्गार / काएसिन कुलिएव / सुधीर सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्यार भरे उद्‍गार उतने ही पुराने हैं, जितने सितारे
सम्भवतः सितारों से भी प्राचीन ।
लेकिन मैं उन्हें उच्चारता हूँ, जैसे
वे मेरे अपने हों, मेरे खास अपने
पहली बार मुझसे ही उच्चारित ।

मुमकिन है वे और भी पुराने हों
हमारी परिचित भाषा से कहीं ज़्यादा पुराने
लेकिन वे आज भी उतने ही ताज़ा हैं, जितने मक्का के दाने — दाने
हालाँकि वे उगे थे पहले-पहल, आज से
दस सहस्त्र साल पहले ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना