भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्याली और गुलाब / निज़ार क़ब्बानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारे प्यार को भुलाने के लिए
अपने दुःख को डुबोने के लिए
मैं कॉफ़ी-हाउस गया
मगर मेरी
कॉफ़ी की प्याली के तल से
एक सफ़ेद गुलाब-सी
उभर आईं तुम ।