भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रणय : जोसी ब्लिस-1 / पाब्लो नेरूदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या हुआ उस प्रचण्ड क्षोभ वाली का?
सम्भव है, अब वह
रंगून के विशाल क़ब्रिस्तान के बीच
बेचैन आराम कर रही है,
या सम्भव है कि लोगों ने उसका तन, सारी शाम,
इरावती के तट पर जलाया हो, जबकि नदी
अपनी मर्मर ध्वनि में
वें बाते कहती रही, जिन्हें मैंने उसे आँसुओं में कहा होता।

अरुण माहेश्वरी द्वारा अँग्रेज़ी से अनूदित