भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रतिरोध / मोईन बेस्सिसो

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी नाक के सामने
फेंका उन्होंने
एक काग़ज़ और एक क़लम
मेरे हाथों में ठूँस दी
घर की चाबी

काग़ज़ — वे मुझ पर दोष लगाना चाहते थे
कहा — प्रतिरोध
क़लम — वे मुझे कलंकित करना चाहते थे
कहा — प्रतिरोध
घर की चाबी
कहा — तुम्हारे इस छोटे-से घर के हर
पत्थर के नाम — प्रतिरोध

दीवार पर एक छेद
दीवार के पार एक संदेश
एक विकलांग हाथ
सूचना मिली — प्रतिरोध

बारिश की हर बूँद
टपक रही थी जो
यंत्रणा-कक्ष की छत पर
चीत्कार कर रही थी — प्रतिरोध

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय