भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रलाप / तसलीमा नसरीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: तसलीमा नसरीन  » प्रलाप

कभी किसी दिन समुद्र के पास जा कर एक घर बनाऊँगी
और कभी जी में आता है कि पहाड़ के पास

ऐसे एकाकी निर्वासन के आकाश से टपकती है शून्यता
कुहासे के उतरने पर अथाह जल में भीग-भीगकर
मैं ले आऊँगी कँपकँपी वाला बुखार।

मुझे न सही, तुम देखने आना मेरा बुखार
लोग बीमार को देखने भी तो आते हैं।


मूल बांग्ला से अनुवाद : मुनमुन सरकार