भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रस्थान / ओरहान वेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाते हुए जहाज़ की ओर
ताकता हूँ मैं

स्वयं को
समुद्र में
झोंक नहीं दूँगा मैं

ख़ूबसूरत है यह संसार
मेरे भीतर
घर किए बैठा है मर्दानापन
रो भी तो नहीं सकता मैं।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सिद्धेश्वर सिंह