भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रात समय उठि जसुमति जननी / गोविन्दस्वामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

प्रात समय उठि जसुमति जननी गिरिधर सूत को उबटिन्हवावति.
करि सिंगार बसन भूषन सजि फूलन रचि रचि पाग बनावति.
छुटे बंद बागे अति सोभित,बिच बिच चोव अरगजा लावति.
सूथन लाल फूँदना सोभित,आजु कि छबि कछु कहति न आवति
विविध कुसुम की माला उर धरि श्री कर मुरली बेंत गहावति.
लै दर्पण देखे श्रीमुख को,गोविंद प्रभु चरननि सिर नावति .