भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रारम्भ / मनोज कुमार झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बार-बार घड़े में अशर्फियों की आस
बार-बार धरती पर उम्मीद की चोट
बार-बार लगती पाँव में कुदाल
बार-बार घड़े में बालू का घर

बार-बार बैठता कलेजे पर गिद्ध
बार-बार रोपता छाती पर ताड़

बार-बार माथे पर रात की शाख
बार-बार कंठ में नींद का झाग
बार-बार भोर में ओस और सूर्य

बार-बार खुरेठता आँगन को कुक्कुर
बार-बार लीपना हरसिंगार की छाँह

बार-बार सोचना क्या रहना ऐसी जगह
बार-बार बदलना खिड़की का पर्दा

बार-बार शोर कि नहीं बचेगी पृथ्वी
बार-बार जल अड़हुल की जड़ में ।