भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रिय की याद / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

1
प्रिय की याद
रह-रहके आई
फूटी रुलाई
हिचकी नहीं थमी
छाई आँखों में नमी।
2
सोचना पड़ा-
तुम मिले न होते
तो क्या-क्या होता?
प्यासे ही मर जाते
हम नदी किनारे।
3
खड़ी है द्वारे
करे अभिनन्दन
भोर किरन
भाव- पगी अर्पित
नेह -कुसुमांजलि
4
अपराजिता
क्या उपहार दूँ मैं
पढ़ सृजन
उड़कर आ जाऊँ
तुझे गले लगाऊँ!
5
घेरती रही
अकेले को तो भीड़
आए भीड़ में
और हुए अकेले
कोई तो साथ ले ले।
-0-