भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-1 / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
मैने नहीं की पूजा
उस परमपिता की
न ही किया सुमिरन

किंतु जब तुमने
अपने भगवान से
मांग लिया मुझे

मैं आठों पहर का पुजारी हो गया।

 
मूल राजस्थानी से अनुवाद- मदन गोपाल लढ़ा