भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम-4 / दुष्यन्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कहते हैं
आज भी जीवित है
बोधिवृक्ष

खड़ा है वैसे ही
सदियों के बाद भी

हम-तुम
रहेंगे-न रहेंगे
हमारा प्रेम रहेगा

बोधिवृक्ष की तरह।


मूल राजस्थानी से अनुवाद- मदन गोपाल लढ़ा