भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

प्रेम करता हूँ मैं आपको मदाम ! / अलेक्सान्दर ब्लोक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अलेक्सान्दर ब्लोक  » प्रेम करता हूँ मैं आपको मदाम !

मौत की गोद में जा रहे हैं क़बीले
बीत रहे हैं तेज़ी से गुज़र रहे हैं साल
कोई छीन नहीं सकता दिन प्रेम के नशीले
कसमसाएँ दिल में जो करते हैं धमाल

सिर्फ़ एक बार देखना चाहता हूँ तुझे
झुकना चाहता हूँ क़दमों में तेरे, सरेआम
कहना चाहता हूँ मरने से पहले यह तुझे
प्रेम करता हूँ मैं आपको, मदाम !

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय